टीका ही टिकाएगा : 28 दिनों में 28 करोड़ ने भी नहीं ली वैक्सीन ! कैसे सुधरेगा सीन ?

0
265

कोरोना संक्रमितों में लगभग 50 प्रतिशत ने नहीं ली है वैक्सीन

युवाओं में भारी उत्साह से टीकाकरण में गति आने की संभावना

कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद, 29 अप्रैल, 2021 (बीबीएन)। देश में गत 1 अप्रैल से 45 वर्ष या उससे अधिक आयु वर्ग के लोगों को कोरोना रोधी टीका देने का महाभियान चल रहा है, परंतु आपको जान कर आश्चर्य होगा कि पिछले 28 दिनों में वैक्सीन के लिए योग्य लगभग 30 करोड़ लोगों में से केवल 15 करोड़ 20 हज़ार 648 लोगों ने ही वैक्सीन ली है।

जहाँ एक ओर भारत सहित पूरे विश्व के एक्सपर्ट वैक्सीन को लेकर एकराय रखते हैं कि वैक्सीन लेने वालों में कोरोना संक्रमण की दर बहुत कम है और जो संक्रमित होते भी हैं, उनका रिकवरी रेट भी वैक्सीन नहीं लेने वाले कोरोना संक्रमितों के मुक़ाबले ऊँचा रहता है।

देश की सरकार, राज्यों की सरकारें, स्थानीय निकाय, मीडिया-सोशल मीडिया सहित सभी लोगों और मंचों से आम जनता को बार-बार समझाया जा रहा है कि कोरोना संक्रमण की नई और घातक लहर से बचने का सबसे बड़ा उपाय टीका ही है, परंतु लोग हैं कि जागने को तैयार ही नहीं हैं।

आश्चर्य की बात यह है कि देश में इस समय कोरोना संक्रमण के जो नए मामले आ रहे हैं, उनमें एक रिपोर्ट के अनुसार 50 प्रतिशत से अधिक मरीज़ ऐसे होते हैं, जिन्होंने वैक्सीन ली ही नहीं है। अब कोई बताए कि शासन-प्रशासन के लोग बेक़ाबू कोरोना को बिना लोगों के सहयोग के कैसे क़ाबू में करे ?

इस बीच एक अच्छी बात यह सामने आई है कि देश में 1 मई से 18 वर्ष या उससे अधिक आयु के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान खोला जा रहा है। इसके लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 28 अप्रैल शाम 4 बजे से शुरू हुआ। रजिस्ट्रेशन के लिए युवाओं ने जिस प्रकार का उत्साह दिखाया, उससे लगता है कि देश में 1 मई से टीकाकरण अभियान में गति आएगी।