PM नरेन्द्र मोदी के CORONA CALENDAR से जानिए 3 मई के बाद LOCKDOWN का क्या होगा ?

0
549

पहले पैटर्न के अनुसार मोदी 29 अप्रैल को दे सकते हैं राष्ट्र के नाम संदेश !

दूसरे पैटर्न के अनुसार मोदी 2 मई को दे सकते हैं राष्ट्र के नाम संदेश !

मुख्यमंत्रियों का मूड कर रहा LOCKDOWN 3.0 की भविष्यवाणी

अहमदाबाद सहित देश के 270 जिलों में लॉकडाउन जारी रहना निश्चित

विश्लेषण : कन्हैया कोष्टी

अहमदाबाद (27/4/2020)। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राष्ट्र के नाम सर्वाधिक बार संदेश देने का रिकॉर्ड नाम कर लिया है। 16 मई, 2014 को पहली बार प्रधानमंत्री बने मोदी ने ‘मन की बात’ कार्यक्रम के माध्यम से राष्ट्र के समक्ष अपने विचारों को प्रकट करने की एक नई पारिपाटी स्थापित की थी, जो आज भी जारी है। यद्यपि हमारे देश में कोई प्रधानमंत्री किसी महत्वपूर्ण मुद्दे पर ही पर या किसी आपातकालीन स्थिति में राष्ट्र के नाम संबोधित करता है। इस परंपरा का पालन करते हुए मोदी ने 8 नवंबर, 2016 को पहली बार सरकारी टेलीविज़न चैनल दूरदर्शन पर रात 8 बजे राष्ट्र को संबोधित करते हुए नोटबंदी की घोषणा की थी। नरेन्द्र मोदी ने 30 मई, 2019 को दूसरी बार प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली, परंतु 8 नवंबर, 2016 के बाद 18 मार्च, 2020 तक उन्होंने राष्ट्र के नाम कोई संदेश नहीं दिया। यद्यपि वे मन की बात अवश्य करते रहे।

कोरोना संकट के बाद एक सप्ताह में 4 बार किया राष्ट्र को संबोधित

इस समय भारत सहित पूरा विश्व कोरोना वायरस (CORONA VIRUS) से फैली वैश्विक महामारी कोविड 19 (COVID 19) के विरुद्ध युद्ध लड़ रहा है। भारत ही नहीं, पूरी दुनिया में जब 1 जनवरी, 2020 को धूमधाम से नया वर्ष मनाया जा रहा था, तब चीन का वुहान ख़ुशहाल दुनिया के लिए भयावह महामारी का उत्पत्ति केन्द्र बन चुका था। देखते ही देखते वुहान से निकला कोरोना कोविड 19 वैश्विक महामारी में परिवर्तित हो गया और भारत में भी इसने 30 जनवरी, 2020 को उस समय दस्तक दे दी, जब चीन से केरल पहुँचा एक नागरिक कोरोना पॉज़िटिव पाया गया। धीरे-धीरे नहीं, अपितु अत्यंत तीव्र गति से कोरोना ने पूरे देश में पैर पसार लिए और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित पूरी सरकार तथा सभी राज्य सरकारें सक्रिय हो गईं। स्थिति इतनी भयावह बनने लगी कि मोदी को एक सप्ताह में 4-4 बार राष्ट्र के नाम संबोधन करना पड़ा तथा कोरोना की चेन तोड़ने के लिए जनता कर्फ्यू से लेकर लॉकडाउन तक जैसे कड़े कदम उठाने पड़े।

मोदी के कोरोना कैलेण्डर में अगली DATE कौन सी होगी ?

पूरा भारत इस समय लॉकडाउन है। यह लॉकडाउन गत 25 मार्च, 2020 रात्रि 12.00 बजे से लागू किया गया, जो 14 अप्रैल तक के लिए था। प्रधानमंत्री ने कोरोना संक्रमण को बढ़ने से रोकने के लिए लॉकडाउन को 3 मई तक बढ़ा दिया, जिसे लोग लॉकडाउन 2.0 (LOCKDOWN 2.0) कह रहे हैं। ऐसे में सभी के मन में प्रश्न यह उठ रहा है कि क्या लॉकडाउन और आगे बढ़ेगा ? क्या देश लॉकडाउन 3.0 (LOCKDOWN 3.0) की ओर बढ़ रहा है ? 3 मई के बाद आख़िर होगा क्या और मोदी इस संबंध में कब राष्ट्र के नाम संबोधित करेंगे ? इन प्रश्नों का सटीक उत्तर तो किसी के पास नहीं है, परंतु मोदी ने कोरोना संक्रमण के बाद जो महत्वपूर्ण कदम जिन तिथियों को उठाए, उन्हें यदि मोदी का कोरोना कैलेण्डर कहा जाए और पुरानी तारीख़ों को आधार माना जाए, तो बहुत प्रबल संभावना है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी या तो 29 अप्रैल को राष्ट्र के नाम संबोधन करेंगे या फिर 1 मई को।

देखते ही देखते इस प्रकार तैयार हुआ मोदी का कोरोना कैलेण्डर

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना संक्रमण के दौरान जो सक्रियता दिखाई, उससे उनका एक विधिवत् कोरोना कैलेण्डर तैयार हो गया और साथ ही मोदी की घोषणा का एक पैटर्न भी स्वत: ही तैयार हो गया। मोदी के इस कोरोना कैलेण्डर की पहली तिथि थी 19 मार्च, 2020 गुरुवार। इसी दिन प्रधानमंत्री ने टीवी पर आकर लोगों से अपील की थी कि वे 22 मार्च, 2020 रविवार को जनता कर्फ्यू रखें, घरों में रहें और सायं 5.00 बजे कोरोना विरोधी युद्ध के योद्धाओं का हौसला बढ़ाने के लिए थालियाँ व घण्टियाँ बजाएँ। मोदी की कोरोना कैलेण्डर की अगली तिथि थी 20 मार्च, 2020 शुक्रवार, जब उन्होंने राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना की स्थिति पर मंत्रणा की। इस मंत्रणा के 96 घण्टे बाद ही यानी 24 मार्च, 2020 मंगलवार रात 8.00 बजे मोदी ने राष्ट्र के नाम दूसरा संबोधन करते हुए आधी रात 12.00 बजे (25 मार्च, 2020 से) पूरे देश में 21 दिनों के लॉकडाउन की घोषणा की। मोदी ने 2 अप्रैल, 2020 गुरुवार को दूसरी बार राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मंत्रणा की और इस बार 24 घण्टे के भीतर ही यानी 3 अप्रैल, 2020 बुधवार रात 8.00 बजे मोदी ने पुन: राष्ट्र को संबोधित किया। इस संदेश में मोदी ने जनता का आह्वान किया कि वह 5 अप्रैल, 2020 रविवार को रात 9.00 बजे अपने घरों की लाइटें 9 मिनट के लिए बंद कर दीया, मोमबत्ती, मोबाइल टॉर्च, मोबाइल फ्लैश लाइट जलाने का आह्वान किया। इस बीच लॉकडाउन की अवधि 14 अप्रैल, 2020 मंगलवार को समाप्त होने वाली थी कि मोदी ने कोरोना कैलेण्डर में 11 अप्रैल, 2020 शनिवार का दिन जोड़ा और तीसरी बार राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मंत्रणा की। सीएम के साथ इस मंत्रणा के 48 घण्टे के भीतर ही मोदी 13 अप्रैल, 2020 सोमवार को पुन: टीवी पर प्रकट हुए। इस बार मोदी सुबह 10.00 बजे जनता के समक्ष साक्षात् हुए और उन्होंने लॉकडाउन की अवधि 3 मई, 2020 रविवार तक बढ़ाने की घोषणा की। इसके साथ ही 15 अप्रैल, 2020 गुरुवार से देश में लॉकडाउन 2.0 आरंभ हो गया, जिसके समाप्त होने में अब 6 दिन ही शेष हैं। ऐसे में प्रधानमंत्री ने कोरोना कैलेण्डर में 27 अप्रैल, 2020 सोमवार का दिन जोड़ा और चौथी बार मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की।

कोरोना कैलेण्डर व पैटर्न से क्या मिलते हैं आसार ?

19 मार्च को जनता कर्फ्यू के आह्वान से आरंभ हुए मोदी के कोरोना कैलेण्डर में 27 अप्रैल, 2020 के बाद अब अगली तिथि क्या होगी या हो सकती है ? इस कोरोना कैलेण्डर का यदि गहन अध्ययन किया जाए, तो मोदी दो पैटर्न सामने आते हैं। पहले पैटर्न के अनुसार मोदी ने लॉकडाउन 2.0 की घोषणा से 48 घण्टे पहले राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की थी। यदि इस पैटर्न के अनुसार देखा जाए, तो मोदी ने 11 अप्रैल को मुख्यमंत्रियों से मंत्रणा की और 48 घण्टे बाद यानी 13 अप्रैल को लॉकडाउन को 3 मई तक आगे बढ़ाने की घोषणा की। इसी पैटर्न पर यदि मोदी चलते हैं, तो उन्होंने 27 अप्रैल को सीएम के साथ मंत्रणा की है यानी मोदी 48 घण्टे बाद यानी 29 अप्रैल को लॉकडाउन को लेकर कोई नई घोषणा कर सकते हैं। यदि दूसरे पैटर्न पर ध्यान दिया जाए, तो मोदी ने लॉकडाउन 1.0 पूर्ण होने से 24 घण्टे पहले 13 अप्रैल को लॉकडाउन 2.0 की घोषणा की थी। यदि मोदी इस पैटर्न को अपनाते हैं, तो संभव है कि वे लॉकडाउन 2.0 पूर्ण होने से 24 घण्टे पहले यानी 2 मई को लॉकडाउन को लेकर कोई नई घोषणा कर सकते हैं।

भव्य भारत न्यूज़ पर मौलिक, शुद्ध व ज्ञान से परिपूर्ण समाचार विश्लेषण जानने के लिए कृपया हमारा FACEBOOK PAGE लाइक करें

अहमदाबाद सहित 270 जिलों में लॉकडाउन 3.0 पक्का

यद्यपि मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में जहाँ एक ओर स्वयं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लॉकडाउन के फायदे गिनवाए, वहीं अधिकांश मुख्यमंत्री भी अपने राज्यों में लॉकडाउन को 3 मई से आगे बढ़ाने के मूड में दिखाई दिए। ऐसे में यह तो निश्चित है कि देश में 3 मई के बाद भी लॉकडाउन 3.0 आएगा। इसमें भी देश के 270 जिलों में तो लॉकडाउन 3.0 का आना निश्चित ही है, जिनमें गुजरात के सबसे बड़े हॉटस्पॉट अहमदाबाद एवं सूरत, वडोदरा, राजकोट और भावनगर शामिल हैं। इस प्रकार गुजरात के 5 सहित देश के 270 जिले हॉटस्पॉट हैं और वहाँ लॉकडाउन 3.0 का आना निश्चित है।

ये हैं देश के 270 कोरोना हॉटस्पॉट जिले

महाराष्ट्र – मुंबई, पुणे, औरंगाबाद, सांगली, नागपुर, ठाणे, मुंबई उपनगर, बुलढाणा, अहमदनगर तथा यवतमाल

दिल्ली – दक्षिण दिल्ली, दक्षिण पश्चिम दिल्ली, पश्चिम दिल्ली, उत्तर दिल्ली, मध्य दिल्ली, पूर्व दिल्ली, शहदरा तथा नई दिल्ली

उत्तर प्रदेश – नोएडा, मेरठ, गौतम बुद्ध नगर, आगरा, लखनऊ, फिरोज़ाबाद, शामली, मुरादाबाद, सहारनपुर, ग़ाज़ियाबाद

केरल – कसरगोड, कुन्नूर, मल्लपुरम्, एर्नाकुलम्, पठनमिथिट्टा, तिरुवनंतपुरम्

तमिलनाडु – चेन्नई, कोयम्बटूर, डिंडीगुल, इरोड, वेल्लोर, तुतिकोरन, मदुरै, तिरुचिरापल्ली, सलेम, कुड्डालोर, तिरुनेतवेली, तिरुपुर, थेनी, तिरुवरुर, विल्लुपुरम्, नमक्कल, नागपट्टिनम्, चेंगालपट्टू, करूर, विरुहनगर, कन्याकुमारी

तेलंगाना – हैदराबाद, वारंगल नगर, निज़ामाबाद, रंगारेड्डी, जोगुलाम्बा, गोडवाल, करीमनगर, मेढचल, मलकागिरी, निर्मल

राजस्थान – भीलवाड़ा, जयपुर, जोधपुर, जैसलमेर, टोंक, कोटा, बीकानेर, भरतपुर, बाँसवाड़ा, झालावाड़, झुंझुनूँ

गुजरात – अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा, राजकोट, भावनगर

मध्य प्रदेश – भोपाल, इंदौर, उज्जैन, खरगौन, होशंगाबाद

कर्नाटक – बेंगलुरू शहर, मैसूर, बेलगावी

आंध्र प्रदेश – कुर्नूल, नेल्लोर, गुंटूर, प्रकासम, विशाखापट्टनम्, कृष्णा, वायएसआर, पश्चिम गोदावरी, पूर्व गोदावरी, चित्तूर, अनंतपुर

पश्चिम बंगाल – कोलकाता, हावड़ा, मिदनापुर पूर्व, 24 परगना उत्तर

बिहार – सिवान

चंडीगढ़ – समग्र महानगर

छत्तीसगढ़ – कोरबा

हरियाणा – गुरुग्राम, पलवल, फरीदाबाद, नुह

जम्मू-कश्मीर – जम्मू, ऊधमपुर, श्रीनगर, बांदीपोरा, बारामुला, कुपवाड़ा

ओडिशा – खोरधा

पंजाब – जालंधर, पठानकोट, सास नगर, शहीद भगत सिंह नगर

उत्तराखंड – देहरादून